do bailon ki katha class 9
16273
post-template-default,single,single-post,postid-16273,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-theme-ver-13.5,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.4.5,vc_responsive
 

do bailon ki katha class 9

do bailon ki katha class 9

को There chapter wise Practice Questions with complete solutions are available for download in myCBSEguide website and mobile app. प्रति करती से (1)” दो बैलों की कथा” के माध्यम से लेखक ने पशुओं तथा मनुष्यों के बीच भावनात्मक सम्बन्धों का वर्णन किया है।, (2) इस कहानी में स्वतंत्रता के मूल्य की बात कही गई है। स्वतंत्र रहना किसी भी प्राणी का जन्मसिद्ध अधिकार है फिर चाहे वो मनुष्य हो या पशु। स्वतंत्रता कभी सहजता से नहीं मिलती। हमें इसके लिए संघर्ष करना पड़ता है।, (3) इस कहानी में बार-बार बैलों के माध्यम से प्रेमचंद ने यह नीति-विषयक मूल्य हमारे सामने रखा है कि समाज में नारी का स्थान सर्वोपरि है तथा हमें उनका सम्मान करना चाहिए।. 6. Home Class 9 Hindi Chapter 1 – दो बैलों की कथा Page No 19: Question 1: कांजीहौस में कैद पशुओं की हाज़िरी क्यों ली जाती होगी? CBSE Class 9 Hindi – A Chapter list. बैलों 8. माध्यम किसान जीवन वाले समाज में पशु और मनुष्य के आपसी संबंध को कहानी में किस तरह व्यक्त किया गया है? कि कहानी प्रति myCBSEguide | CBSE Papers & NCERT Solutions. © 2020 myCBSEguide | CBSE Papers & NCERT Solutions, Premchand ke Phate Joote (Harishankar Parsai ), Chandra Gehna se Lautti Ber (Kedarnath Agarwal), Bache kam par ja rahe hain (Rajesh Joshi), Class 9 Hindi – A Lhasa ki Aur Extra Questions, Class 9 Hindi – A Megh Aaye Important Questions, Class 9 Hindi – A Sakhiya aav Shabad Extra Questions, Class 10 Hindi Mata Ka Anchal Important Questions, Class 9 Hindi – A Mere Bachpan ke Din Important Questions, Class 9 Hindi – A Sawle sapno ki yaad Extra Questions, Class 10 Hindi – A Mannu Bhandari Extra Questions, Class 10 Hindi – A Ram Lakshman Parshuram Samvad Extra Questions, Free Online Test Series for CBSE Students, Case Study based Questions Class 10 Mathematics, CBSE Class 10 English Sample Paper 2020-21, How to add Subjective Questions in Online Tests, The Best Mobile App for CBSE and NCERT Syllabus. भी प्रेमचंद स्वतंत्रता पूर्व लेखक हैं। इनकी रचनाओं में भी इसका प्रभाव देखा गया है। "दो बैलों की कथा" नामक कहानी भी इससे अछूती नहीं है। मनुष्य हो या पशु पराधीनता किसी को भी स्वीकार नहीं है। सभी स्वतंत्र होना चाहते हैं। प्रस्तुत कहानी की कथावस्तु भी इन्हीं मनोविचार पर आधारित है। प्रेमचंद ने अंग्रेज़ों द्वारा भारतीयों पर किए गए अत्याचारों को मनुष्य तथा पशु के माध्यम से व्यक्त किया है। इस कहानी में उन्होंने यह भी कहा है कि स्वतंत्रता सहज ही नहीं मिलती, इसके लिए निरंतर संघर्ष करना पड़ता है। जिस प्रकार अंग्रेज़ों के अत्याचार से पीड़ित जनता ने अपना क्षोभ विद्रोह के रुप में व्यक्त किया, उसी प्रकार बैलों का गया के प्रति आक्रोश भी संघर्ष के रुप में भड़क उठा। इस प्रकार अप्रत्यक्ष रुप से यह कहानी आज़ादी की भावना से जुड़ी है।. 12. CBSE Reduced Syllabus by 30% for Session 2020-21, When CBSE will Conduct Remaining Exams (COVID-19). और लगता The books have been designed based on the syllabus issued by CBSE. Digital NCERT Books Class 9 Hindi pdf are always handy to use when you do not have access to physical copy. छाँटिए कौन-कौन Do Bailon Ki Katha (Premchand) Lhasa ki or (Rahul Sankrityayan) Upbhoktavad ki Sanskriti (Deleted) Sawle sapno ki yaad (Jabir Husain) Nana Saheb ki Putri (Chapla Devi) Premchand ke Phate Joote (Harishankar Parsai ) Mere Bachpan ke Din (Mahadevi Varma ) Ek kutta or ak Mena (Deleted) Sakhiya aav Shabad (kabir) में Students are suggested to go through the books carefully and also do the questions at the end of the chapters to ensure that they understand all the concepts given in the chapters. है। Kritika. कहानी में जगह - जगह पर मुहावरों का प्रयोग हुआ है कोई पाँच मुहावरे छाँटिए और उनका वाक्यों में प्रयोग कीजिए।. दोनों बैलों (हीरा-मोती) का अपमान गया ने किया था। अपने घर ले जाकर गया ने उन्हें मोटी रस्सियों से बाँध दिया औऱ नांद में सूखा भूसा डाल दिया। अपने बैलों को उसने खली चुनी सब दिया । ऐसा उसने हीरा मोती को सबक़ सिखाने के उद्देश्य से किया था।, झूरी हीरा और मोती को कभी भी मारता न था क्योंकि वह बैलों से प्रेम करता था। बैल भी उसका संकेत पाते ही खुशी-खुशी काम में जुट जाते थे। इसके विपरीत गया ने चारे के नाम पर उन्हें सूखा भूसा दे दिया और हल में जोत दिया। दुखी बैलों ने जब अपने कदम न उठाए तो उसने दोनों की बेरहमी से पिटाई करनी शुरू कर दी। इस प्रकार झूरी और गया के व्यवहार में बहुत अंतर था।, गया ने क्रूरता और निदर्यतापूर्वक हीरा की नाक पर खूब डंडे बरसाए। यह देखकर मोती को क्रोध आ गया। इसी क्रोधावेश में वह हल लेकर भागा जिससे हल, रस्सी, जुआ, जोत सब टूट गए।, किसान का जीवन खेती पर आधारित होता है | खेती पशुओं के बिना असंभव है | पशु आदिकाल से ही मनुष्यों के साथी रहे हैं। मनुष्य ने कभी उन्हें अपनी सुरक्षा के लिए पाला तो कभी आर्थिक लाभ के लिए। किसान-जीवन में किसान हल चलाने, बोझा ढोने, पानी खींचने तथा सवारी करने के लिए मनुष्य पशुओं का प्रयोग करता है। पशु भी अपने चारे के लिए मानव-जाति पर निर्भर रहते हैं। कहानी में झूरी अपने बैलों से प्यार करता है तथा उनके खाने पीने का ध्यान रखता है | हीरा-मोती भी झूरी से बहुत लगाव रखते हैं और हर समय काम करने के लिए तत्पर रहते हैं | अंत में वे हर मुसीबत पर विजय पाते हुए प्रेम न करने वाले गया के घर से भाग जाते हैं और लौटकर झूरी के पास आ जाते हैं।, कांजीहौस में उन लावारिस जानवरों को बंद किया जाता है जो दूसरों की फसलों को चर जाते हैं या अन्य तरीके से नुकसान पहुँचाते हैं। वहाँ बंद जानवरों के साथ अत्यंत ही क्रूर व्यवहार किया जाता है, जो संवेदनाशून्य होता है । उन्हें केवल पानी के सहारे जिंदा रखा जाता है और वह भी इतना ही दिया जाता है कि वे मरे नहीं। भोजन तो बस नाम मात्र का ही दिया जाता है और कभी-कभी नहीं भी दिया जाता है | यदि वे भागने का प्रयास करते हैं तो उन पर डंडे बरसाए जाते हैं। ऐसे कई जानवर जब एकत्र हो जाते हैं तो उन्हें नीलाम कर दिया जाता है।, कहानी में बैलों के माध्यम से निम्नलिखित नीति-विषयक मूल्य उभरकर आए हैं-, ‘दो बैलों की कथा’ के मुख्य पात्र हीरा-मोती ने पूरे पाठ में अपने साहस और एकता का प्रदर्शन किया है | पकड़े जाने पर वे जोर लगाकर भागते हैं और पकड़ में नहीं आते हैं। अपने से भारी-भरकम और खूँखार साँड़ को वे दोनों मिलकर पराजित करने में सफल होते हैं । दोनों मित्र मिलकर कांजीहौस की दीवार गिराकर जानवरों को आज़ाद कराते हैं | नीलाम होने पर वे दढ़ियल से मुकाबला कर अपनी जान बचा लेते हैं और अपने मालिक के पास पहुँच जाते हैं | इससे सिद्ध होता है कि एकता में शक्ति होती है।, गया के घर से भागकर आए हीरा-मोती को देखकर झूरी स्नेह से गदगद हो गया। वह उन्हें प्यार से गले लगाकर चूमने लगा । गाँव के सभी बच्चों ने तालियाँ बजाकर दोनों बैलों का स्वागत किया। हीरा-मोती उनके लिए किसी विजयी से कम नहीं थे | बच्चों ने उन्हें सम्मानित करने का मन बनाया। ईनाम स्वरुप उनके लिए कोई बच्चा अपने घर से रोटियाँ, कोई गुड़, कोई चोकर और कोई भूसी आदि ले आया। झूरी की पत्नी दोनों बैलों को अपने द्वार पर आया हुआ देखकर जल-भुन गई | वह उन्हें नमकहराम कहने लगी। उसने झूरी से कहा कि ये दोनों काम के डर से वहाँ से भाग आए हैं | उसने नौकर को चेतावनी दे दी कि इन्हें खाने को सूखा भूसा ही दिया जाए।.

Wf Eon 7010 Pasc, Best Ninja Foodi Grill Cookbook, Tea Forté Café Cup, Healthy Blackberry Oatmeal Bars, How To Remove Rust From Carbon Steel Wok, Chrysanthemum Colors Meaning, A Practical Guide To Evil Summary, How To Dry Potassium Fluoride, 2-door Armoire With Drawers, Sound Editor Contract, Sazon Goya Chicken Recipes, Common Problems With Photocells, Cha Banh Mi, Silver Nitride Formula, De Buyer Mineral B Wok Review, Ninja Foodi Grill Recipes Pork Chops, Northern Parula Female, Bbq Chicken Drumsticks Marinade, Atlantic Ocean Fish Identification, Examples Of Natural Theology, Pace 5268ac Replacement, How Far Is France In Hours, Snow Goose Lifespan, Almond Calories Per Nut, Decaborane Empirical Formula, Aashiqui Mein Har Aashiq Lyrics In English, Netgear Ex8000 Firmware, Buckwheat Flower Meaning, Shark Tank Drink Before Bed,

No Comments

Post A Comment